Contact for Astrology and Vaastu Services     +91 - 9868 068 906      info@vedicaashram.com

।। भूमि-पूजन एवं गृह-प्रवेश-यज्ञ।।

सनातम धर्म के अनुसार इंसान के जीवन में भूमि पूजन को ऋषि मुनियों के कथन के अनुसार बहुत बड़ा महत्व है। जैसे की महर्षि भृगु जी का कथन है कि इंसान चाहे घर बनवाये या फैक्ट्री या किसी भी प्रकार का कोई भी निर्माण कराये उसमें सूर्य की गतांश स्थिति को किसी योग्य ज्योतिषी के द्वारा जाने। जिससे यह पता चलता है कि वास्तु महा पुरूष जिस समय में उसे भूमि पूजन कराना है तो वास्तु पुरूष की स्थिति जैसे कि उनका सर, उनका पैर, उनका हाथ, उनके शरीर का कौन सा अंग किस भाग में शयन कर रहा है। जिसकी जानकारी होने के बाद ज्योतिषी आपको सूचित करेगा कि किस दिशा में भूमि पूजन को प्रारम्भ करना है। उस प्रकार ज्योतिषी के कथनानुसार आपको नीव के अन्दर रखने याग्य सामग्री भी बतायेंगे और उसको रखने के बाद पंच देवताओं का पूजन कराने के बाद ही भवन निर्माण करायें।

जिससे आपके घर, फैक्ट्री में निर्माण के समय राजकृत, जनकृत, देवकृत, बाधा न उत्पन्न हो। और भूमि शोधन के लिए भूमि पूजन के एक सप्ताह पहले भूमि की जांच करायें। जिससे यह स्पष्ट हो सके कि भूमि उत्तम है या मध्यम है या अधम है। इसकी भी जानकारी हमारी संस्था के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। भवन निर्माण होने के बाद शास्त्र मत के अनुसार भवन का विधि पूर्वक गृह प्रवेश कराने से उस भवन में या उस फैक्ट्री में या उस मौल में रहने वाले लोग भी सुख पूर्वक जीवन व्यतीत करते हैं। परिवार के सदस्य परिवार के साथ सामंजस्य बनाकर रहना स्वीकार करते हैं। फैक्ट्री आदि में नौकर एवं मालिक का सामजंस्य बराबर बना रहता है जिससे किसी के अन्दर मानसिक विकार न हो ओर जो भी नाम की संस्था हो उसको देश-विदेश में ख्याती प्राप्त हो। इस प्रकार हमारी संस्था के द्वारा लोक कल्याणकारी, समाज हितकारी, मागदर्शन का प्रयास किया जाता है अगर हमारी इस संस्था से जुड़ने वाले जिज्ञासु, बन्धु किसी भी प्रकार के असमंजस हों। तो अपने विचार हमारी संस्था के नम्बरों पर फोन कर सकते है। जिससे उनके सुझाव एवं जिज्ञासा का ध्यान रखते हुऐ मार्गदर्शन का प्रयास किया जायेगा। यदि हमारे द्वारा मार्गदर्शन से सुखी होकर कोई भी जिज्ञासु को सन्तुष्टि होती है तो हमें बहुत ही खुशी होगी।