Contact for Astrology and Vaastu Services     +91 - 9868 068 906      info@vedicaashram.com

।। वास्तुशास्त्र।।

विशेषतः वास्तु शास्त्र प्राचीन पद्धति के अनुसार ऋषिमुनियों की खोज है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के उत्तर और पूर्व के कोने पर देवताओं का वास होता है दक्षिण मेंं रसोई घर, पश्चिम में बैडरूम, उत्तर में लक्ष्मी का वास होता है इनके अनुसार अगर घर में इन जगहों पर या इनके स्थान पर रसोई या अन्य वस्तु स्थापित हो गया है तो ऐसे घरों में वास्तु दोष होता है।

वास्तु दोष होने से हानि : वास्तु दोष के कारण घर में अकस्मात लड़ाई झगड़े, बच्चों में अनुशासन हीनता, पढ़ाई या अच्छी आदतों से दूर हो जाना, बेतुके जवाब देना एवं घर में रोग का आगमन होना, आय कम और व्यय ज्यादा होना, मान प्रतिष्ठा की हानि, ऐसी परिस्थितियां बनती रहती हैं।

घर में वास्तु दोष होने का वर्णन : वैदिक प्रक्रिया के अनुसार 10 दिशाऐं होती हैं और 10 दिशाओं के स्वामी होते हैं। आपके घर में किस दिशा का बुरा प्रभाव पड़ रहा है यह जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारी संस्था को अपने घर, अपनी फैक्ट्री व अपने ऑफिस की दिशा को बताऐं या दिखाऐं।

वास्तु दोष निवारण यज्ञ : आपके घर के वास्तु दोष की जानकारी मिलने के बाद ही यज्ञ यंत्र का निर्णय लिया जाऐगा।